2

Apj Abdul Kalam Biography in Hindi डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय

Spread the love

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को भारत का मिसाइल मैन कहां जाता है। जब भी भारत और विश्व के महान वैज्ञानिकों की बात आती है तो Dr. Apj Abdul Kalam का नाम बहुत ही आदर के साथ लिया जाता है। वह भारत के राष्ट्रपति के पद पर भी आसीन रहे। भारत की युवा पीढ़ी उनको अपना आदर्श मानती है। आप Apj Abdul Kalam Biography in Hindi पढ़ रहे है।

Apj Abdul Kalam Biography in Hindi
Apj Abdul Kalam Biography in Hindi

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का जीवन सभी के लिए प्रेरणा दायक है। बचपन से संघर्षो से भरा उनका जीवन सभी को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है। इस लेख में हम डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के जन्म, परिवार, फैमिली, शिक्षा, और वैज्ञानिक से राष्ट्रपति बनने तक के सफर के बारे में विस्तार से चर्चा करने वाले है।

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म कब हुआ | APJ Abdul Kalam Birthday | Abdul Kalam Date of Birth

Dr. Kalam का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को धनुषकोडी के रामेस्वरम में हुआ था जो कि पहले मद्रास राज्य में आता था और अब तमिलनाड़ु राज्य में स्थित है। कलाम के जन्मदिन को World Student Day (विश्व स्टूडेंट दिवस) के रूप में मनाते है।

उनके पिता नाम जैनुलाब्दीन था जो की एक नाव के मालिक थे तथा मस्जिद में इमाम का काम करते थे। उनकी माता का नाम आशिअम्मा था जो कि एक ग्रहणी थी।

Apj Abdul Kalam Full Name Kya Hai | APJ Ka Pura Name | What is the Full form of Apj Abdul Kalam

सभी लोग एपीजे अब्दुल कलाम को मिसाइल मैन के नाम से जानते है। एपीजे अब्दुल कलाम का पूरा नाम अवुल पाकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम (Avul Pakir Jainulabdeen Abdul Kalam) है। वह भारत के महान वैज्ञानिक और राष्ट्रपति थे।

एपीजे अब्दुल कलाम का बचपन | Apj Abdul Kalam Childhood

Apj Abdul Kalam Childhood से ही एक बहुत प्रतिभाशाली छात्र थे। कलाम का जन्म एक ऐसे परिवार में हुआ था जो आर्थिक रूप से कमजोर था। इसलिए बहुत छोटी उम्र में ही उन्होंने अखबार बेचना शुरू कर दिया था। जिससे परिवार की कुछ मदद कर सके।

पक्षियों को उड़ता देख वो हमेशा उड़ने का सपना देखते थे। एक ब्रिटिश अखबार में लड़ाकू विमान के बारे में छपे एक लेख को पढ़कर वो विमान उड़ाने के बारे में सोचते थे।

अब्दुल कलाम की शिक्षा | Education of APJ Abdul Kalam

यदि Education of APJ Abdul Kalam कि बात करें तो कलाम बचपन से ही पढ़ने में बहुत होशियार छात्र थे। उनकी स्कूली शिक्षा रामनाथपुरम के श्वार्ट्ज मैट्रिकुलेशन स्कूल से हुई। स्कूल के दिनों से ही वो विज्ञान और गणित में विशेष रूचि रखते थे। Kalam ने तिरुचिरापल्ली के सेंट जोसेफ कॉलेज से भौतिक विज्ञान में स्नातक की डिग्री प्राप्त की थी।

उस के बाद वो एयरोस्पेस इंजीनियरिंग का अध्ययन करने के लिए मद्रास चले गए। वहां पर 1960 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी-चेन्नई) से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में स्नातक किया।

इंजीनियरिंग करने के बाद उन्होंने रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) में एरोनॉटिकल डेवलपमेंट डिपार्टमेंट में वैज्ञानिक के रूप में शामिल हुए।

डॉ. कलाम का वैज्ञानिक सफर

Engineer करने के बाद कलाम ने सहायक वैज्ञानिक के रूप में रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) ज्वाइन कर लिया। यह 1958 का समय था। डॉ क़लाम ने अपना पहला प्रोजेक्ट भारतीय सेना के लिए हल्के हेलीकॉप्टर का खाका तैयार करना था। जिसमे वो सफल रहे। डॉ कलाम ने यहाँ कई प्रोजेक्टों पर 1969 तक काम किया।

कलाम ने भारत में अंतरिक्ष प्रोग्राम के जनक प्रसिद्ध वैज्ञानिक विक्रम साराभाई के साथ भी कुछ समय तक काम किया था।

1969 में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) की स्थापना के बाद कलाम वहा चले गए। यहाँ पर प्रोजेक्ट डायरेक्टर के रूप में पहला भारतीय प्रक्षेपण यान SLV – III का निर्माण किया। इसकी सफलता के बाद ही भारत ने अपना पहला उपग्रह ‘रोहिणी’ सन 1980 में पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया था। इन कार्यो को करते हुए कलाम को बहुत अच्छा लगने लगा।

डॉ कलाम उन व्यक्तियों में से थे जो भारत के पहले परमाणु परीक्षण के समय मौजूद थे। यहाँ तक पहुंचते पहुंचते कलाम एक अच्छे वैज्ञानिक के रूप में अपनी पहचान बना चुके थे।

1982 में कलाम DRDO में निदेशक के रूप में वापस लौटे। यहाँ पर कलाम के निर्देशन में भारत का पहला (Integrated Guided Missile Development Program) एकीकृत गाइडेड मिसाइल विकास कार्यक्रम शुरू हुआ।

इस प्रोजेक्ट के अंतर्गत ही भारत ने मिसाइल का निर्माण किया। जिनमे अग्नि, पृथ्वी, त्रिशूल और नाग प्रमुख है। इन मिसाइल्स का लोहा पूरी दुनिया ने माना जिसके कारण डॉ कलाम को मिसाइल मेन ऑफ़ इंडिया कहा जाता है।

इसके बाद 1992 से 1999 तक डॉ कलाम ने भारत सरकार के वैज्ञानिक सलाकार के रूप कार्य किया। इसके साथ ही वो DRDO के सचिव भी थे।

प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपेयी के समय 1998 में हुए पोखरण 2 परमाणु परीक्षण में डॉ कलाम ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इसकी सफलता के बाद ही भारत को परमाणु शक्ति सम्पन्न घोषित किया गया था। जिससे बाद ये हीरो के रूप में उभर कर बाहर आये और लोगो के दिलों पर छा गए।

भारत के राष्ट्रपति – डॉ एपीजे अब्दुल कलाम

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम भारत के 11 वें महामहीम राष्ट्रपति के रूप में 2002 में मनोनीत हुये।

एक वैज्ञानिक के रूप में डॉ कलाम के अच्छे कार्यो और उनकी लोगों में प्रसिद्दि के मध्यनज़र अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने उन्हें राष्ट्रपति पद के लिए मनोनीत किया। जिसमें उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी को भारी मतों से हराया।

वें 22 जुलाई 2002 को राष्ट्रपति पद पर आसीन हुए।
कलाम उन लोगों में से थे जिनको राष्ट्रपति बनाने से पहले ही भारत रत्न मिल चुका था।

राष्ट्रपति के रूप में उनके अच्छे कार्यो की वजह से उन्हें “जनता का राष्ट्रपति” के नाम से भी जाना जाता है।

डॉ कलाम 2007 तक भारत के राष्ट्रपति रहे। उसके बाद अगले कार्यकाल के लिए राजनैतिक पार्टियों में समन्वय नहीं होने के कारण उन्होंने अपनी उम्मीदवारी छोड़ दी।

राष्ट्रपति पद त्याग के बाद कलाम ने बहुत सी यूनिवर्सिटी में स्टूडेंट्स को गेस्ट के रूप में लेक्चर देने का कार्य जारी रखा। वे कई शोध कार्यो में भी शामिल रहे।

डॉ कलाम हमेशा युवाओं के बारे में अपने विचार प्रकट करते रहते थे उन्होंने कई ऐसे कार्य किये जिससे युवा उन्नति कर सके। इसलिए कलाम कोदो बार एम टी वी यूथ आइकन ऑफ़ दा ईयर अवार्ड से भी नवाज़ा गया था।

युवाओं में उनकी लोकप्रियता बहुत अधिक थी। इसलिए उन्होंने “व्हाट कैन आई गिव ” कार्यक्रम की शुरुआत युवाओं के लिए की थी। जिसका उद्देश्य भ्रस्टाचार को खत्म करना था।

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम की मृत्यु | Apj abdul kalam death

डॉ कलाम को स्टूडेंट्स से बहुत प्यार था इसलिए भारतीय प्रबंधन संस्थान, शिलॉन्ग में एक स्टूडेंट कार्यक्रम के दौरान दिल का दौरा पड़ने के कारण वो 27 जुलाई 2015 को इस दुनिया को छोड़ कर चले गए। लेकिन उनकी शिक्षा हमेशा लोगों के जीवन में रहेंगी।

एपीजे अब्दुल कलाम को भारत रत्न कब मिला?

एपीजे अब्दुल कलाम को भारत रत्न 1997 में मिला था। यह भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है।

एपीजे अब्दुल कलाम की पत्नी का नाम क्या था?

एपीजे अब्दुल कलाम की पत्नी नहीं थी क्योंकि इन्होने शादी नहीं की थी।

डॉक्टर कलाम को कौन कौन से पुरस्कार मिले थे?

डॉ कलाम भारत के महान वैज्ञानिक थे। इन्हें भारत के ज्यादातर सम्मान मिले थे।
1981 – पद्म भूषण 
1990 – पद्म विभूषण
1997 – भारत रत्न
1999 – डॉक्टर
2002 – राष्ट्रपति

इसके अलावा भी कलाम को देश विदेशों से कई सम्मान मिले थे।

Apj abdul kalam technological university कहाँ है ?

Apj abdul kalam technological university भारत के केरल राज्य में स्थित है।

APJ Abdul Kalam Death

APJ Abdul Kalam की Death 27 जुलाई 2015 को हुई ।

एपीजे अब्दुल कलाम की पुस्तकें | Apj abdul kalam books

एपीजे अब्दुल कलाम ने कई पुस्तकों की रचना की थी जो सभी के लिए प्रेरणास्प्रद है। जिनमे से कुछ निम्न है।

  • इंडिया 2020
  • विंग्स ऑफ फायर : एन ऑटोबायोग्राफी
  • इग्नाइटेड माइंडस : उनशिलिंग द पावर विथिन इंडिया
  • मिशन इंडिया
  • इन्डोमिटेवल स्पिरिट

हमारे लेख Apj Abdul Kalam Biography in Hindi को पढ़ने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

hindiduniyaa

2 Comments

  1. मेल डिलीवर नहीं हुई इसलिए यहाँ से मेसेज सेंड कर रहा हु….आप इसको डिलीट कर दीजियेगा

    मैं प्रवीण कुमार सीरवी pasandhai .in से हूँ.
    मैंने आपकी वेबसाइट हिंदी दुनिया को देखा हैं. हमको आपकी वेबसाइट पर गेस्ट पोस्ट करनी हैं.
    हमारी वेबसाइट का कंटेंट की कुछ केटेगरीज समान हैं.

    हमने एक कीवर्ड निकाला हैं…… रामकृष्ण परमहंस की जीवनी
    क्या आप इस कीवर्ड से सहमत हैं.

    आप अपनी राय भेजिए….

    हमारी वेबसाइट का da 15 हैं. स्पैम स्कोर 0 हैं. adsence से approved हैं.

    साभार
    प्रवीण
    pasandhai.in

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *