0

भगवती देवी त्यागी 1857 की क्रांतिकारी महिला

Spread the love

भगवती देवी त्यागी 1857 की क्रांतिकारी महिला जिसको अंग्रेजों ने तोप से उड़ा दिया था।

आज भारत को आजाद हुए करीब 75 वर्ष पूर्ण हो चुके हैं और हमारा देश इस खुशी में आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है । लेकिन यह आजादी हमें किस कीमत पर मिली मिली और इसके पीछे कितने लोगों का योगदान रहा है यह जानना बहुत ही आवश्यक है।  आज तक हमें केवल कुछ लोगों के बारे में ही जानकारी दी जाती रही है कि इन लोगों ने ही आजादी के लिए प्रयास किया और इनकी इनकी वजह से हमें आजादी मिली। जिसमें गांधी नेहरू परिवार का नाम सबसे ऊपर आता है लेकिन ऐसा नहीं है दोस्तों, आजादी के लिए हजारों लाखों लोगों ने अपने प्राणों की आहुति दी थी तब जाकर हमें यह दिन देखने को मिला। इन महान लोगों के बारे में हमें जानकारी होना आवश्यक है।

आजादी के लिए पहला स्वतंत्रता संग्राम सन 1857 में हुआ लेकिन इससे पहले भी कई छोटे-छोटे प्रयास इसके लिए होते रहे।  लेकिन जो महत्वपूर्ण और बड़ा प्रयास हुआ वह 1857 की क्रांति के रूप में जाना जाता है।  ऐसा ही एक प्रयास जिसके बारे में हम आज पढ़ने वाले हैं और जिसको इतिहास के पन्नों में जगह नहीं दी गई या काहे उचित स्थान नहीं मिला वह महिला है भगवती देवी त्यागी।

भगवती देवी त्यागी का जन्म सन 1811 में मुजफ्फरनगर के एक छोटे से कस्बे में हुआ था। भगवती देवी बचपन से ही बहुत ही बहादुर और धैर्यवान महिला थी।  1857 की क्रांति के समय भगवती देवी त्यागी ने महिलाओं की टोली बनाकर अंग्रेजों से डटकर मुकाबला किया। इनकी टोली में करीब 22 महिलाएं थी। इनमे सभी बहुत ही साहसी और लड़ाकू थी । इन्होंने बहुत से मोकों पर अंग्रेजों से लोहा लिया। इनका नाम 1857 की क्रांति में बढ़ चढ़ कर भाग लेने वाले महान क्रांतिकारियों में लिया जाता है। जिससे अंग्रेज त्यागी से बहुत ज्यादा खफा हो गए । अंग्रेजो ने त्यागी को कठोर दण्ड  देने का निश्चय किया। उन्होंने भगवती देवी त्यागी को तोप से बांधकर उड़ा दिया। जब भी कोई पढ़ने वाला इस घटना को पड़ेगा तो वह भगवती देवी त्यागी के बलिदान को कभी भूल नहीं पाएगा । आप खुद सोचिए वह दृश्य कितना भयानक रहा होगा जब किसी को तोप से उड़ाया जाए।  तो दोस्तों ऐसे ही बहुत से क्रांतिकारी रहे हैं जिन्होंने अपना बलिदान देश की आजादी के लिए दिया है और यह हमारा कर्तव्य बनता है और यह सरकार का भी कर्तव्य बनता है कि हम उनके बारे में थोड़ी बहुत जानकारी रखे हैं और ऐसे लोगों के बारे में हमारे स्कूलों में बच्चों को पढ़ाया जाए जिससे बच्चे बहुत कुछ सीख सकें। 

अभी तक की सरकारों में ऐसे कोई प्रयास हमारे देश में नहीं किए हैं मैं आशा करता हूं कि आने वाली सरकार है ऐसे वीर महान क्रांतिकारियों के बारे में हमारे बच्चों को पढ़ाएंगे और उन्हें उन पर गर्व करना सिखाएंगे। 

keyword: Bhagwati devi tyagi, 1857 ki Kranti

hindiduniyaa

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *